‘नोटबंदी में हुआ 3 से 5 लाख करोड़ का घोटाला’

लोकसभा चुनाव में नोटबंदी का क्या असर हो रहा है. इसका मोदी सरकार को कितना नुकसान उठाना पड़ेगा. क्या वाकई नोटबंदी से कोई फायदा नहीं हुआ. ये ऐसे प्रश्न हैं जिनके जवाब अभी देना मुश्किल है. लेकिन नोटबंदी को लेकिन रामदेव ने एक बात मान ली है कि ये एक घोटाला था.

Also read:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर, 2016 की रात आठ बजे नोटबंदी का ऐलान करते हुए 500 और 1000 रुपये के बड़े करेंसी नोटों को तत्काल प्रभाव से प्रचलन से बाहर कर दिया था. इस एलान के बाद देश में करीब तीन से चार महीने तक लोग परेशान रहे. शुरु में मोदी सरकार ने नोटबंदी को बहुत अच्छा बताया था. लेकिन अब इसपर बीजेपी नेता और वो खुद बात करने से हिचकते हैं. कांग्रेस नोटबंदी को दिन दहाड़े लूट और घोटाला बता रही है. अब कांग्रेस रामदेव ने भी ये मान लिया है कि नोटबंदी में करीब 3 से 5 लाख करोड़ का घोटाला हुआ है.

‘द क्विंट’ को दिए एक इंटरव्यू में बाबा रामदेव ने कहा कि इसमें तीन से पांच लाख करोड़ तक का घोटाला हुआ है. रामदेव ने कहा,

मोदीजी ने भी नहीं सोचा होगा कि बेईमान निकलेंगे बैंकवाले। मुझे ऐसा लगता है कि हजारों नहीं, शायद लाखों करोड़ रुपये बना लिए बैंक वालों ने। इसमें तीन से पांच लाख करोड़ रुपये का घोटाला निकलेगा।

बाबा रामदेव ने आरबीआई पर भी शक जाहिर किया और कहा है कि एक सीरीज के दो नोट छपे हुए मिले. यह देश की अर्थव्यवस्था पर बहुत बड़ा कलंक है. रामदेव ने कहा है कि जब नोटबंदी हुई थी तो कैश की कमी नहीं थी लेकिन कैश बेईमानों के पास चला गया था. कालाधन को लेकर यूपीए सरकार में आंदोलन करने वाले रामदेव ने कहा कि बैंकों की व्यवस्था को पारदर्शी बनाने की जरूरत है.

About Post Author

Leave a Reply

Your email address will not be published.