‘अगर BJP को 2014 से 100 सीटें कम मिलती हैं तो NDA तय करेगी की अगला PM कौन होगा’

महाराष्ट्र में बीजेपी-शिवसेना के बीच गठबंधन होने के बाद ये कहा जा रहा था कि इस राज्य में पीएम मोदी के लिए शिवसेना मुश्किलें खड़ी नहीं करेगी. लेकिन गठबंधन के बाद शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत का कहना है कि अगर 2019 लोकसभा चुनाव में भाजपा को 2014 के मुकाबले 100 सीटें कम मिलती हैं, तो एनडीए तय करेगा कि कौन प्रधानमंत्री बनेगा?

शिवसेना के प्रवक्ता का ये बयान क्या संकेत देता है. क्या वो ये कहना चाह रहे हैं कि अगर बीजेपी पूर्ण बहुमत में नहीं आई तो बीजेपी में पीएम पद के लिए दूसरे चेहरों को भी आजमाया जाएगा. अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस को दिए साक्षात्कार के दौरान राउत ने कहा,

भाजपा में प्रधानमंत्री पद के कई दावेदार हैं और अगर भाजपा पिछले चुनाव के मुकाबले 100 सीट कम जीतती है, तो एनडीए तय करेगा कि कौन प्रधानमंत्री होगा. बराबर सीट पर फैसला लेने के बावजूद भी शिवसेना बड़े भाई की भूमिका में है, क्योंकि पिछले विधानसभा चुनाव में शिवसेना 63 सीट और भाजपा 122 सीट जीतने के बावजूद भी उन्होंने बराबर सीट पर सहमति जताई है. इसके अलावा भाजपा मनपसंद सीट देने को तैयार है और मुख्यमंत्री पद शिवसेना को देने के लिए सकारत्मक दिखती है.’

संजय राउत शिवसेना के मुखपत्र सामना के संपादक भी हैं लिहाज उनके बयान के मायने होते हैं. उनका दावा है कि 2019 में होने वाले महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के बाद मुख्यमंत्री शिवसेना का ही होगा. महाराष्ट्र में लोकसभा चुनाव में भाजपा 25 सीटों पर लड़ेगी और शिवसेना 23, वहीं विधानसभा में दोनों दल 144-144 सीटों पर चुनाव लड़ने का निर्णय लिया है.

गठबंधन होने के बाद भी शिवसेना की तेवर नरम नहीं पड़े हैं. संजय राउत ने एक बार फिर कहा है कि  नोटबंदी के फैसले से बेरोजगारी बढ़ी है. उन्होंने कहा कि भले ही मोदी एनडीए का देशभर में चेहरा हों, लेकिन महाराष्ट्र में उद्धव, बिहार में नितीश और पंजाब में प्रकाश सिंह बादल एनडीए का चेहरा हैं. अब उनके इस बयान का क्या मतलब है ये सोचने वाले समझें लेकिन ये तो तय है कि आगामी चुनाव में अगर बीजेपी को प्रदर्शन गिरता है तो फिर मोदी के लिए राह आसान नहीं रहने वाली है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.