सिंगल यूज प्लास्टिक ले जुड़ी ये बात जान लीजिए समझ जाएंगे क्यों नाकाम हो रही हैं सरकारें

single use plastic

यूज प्लास्टिक पर लगाम लगाने के लिए बहुत कोशिशें की जा रही हैं लेकिन कामयाबी नहीं मिल पा रही. क्या आप जानते हैं कि ऐसा क्यों है. ये बात इसलिए महत्वपूर्ण हो जाती है क्योंकि प्लास्टिक कचरा भारत में प्रदूषण का एक बड़ा स्रोत बन गया है.

आपको याद होगा भारत में तीन महीने पहले सिंगल यूज प्लास्टिक पर बैन लगाया गया था. से एसयूपी ले बनी 21 चीजों पर लगाए गए थे जिनमें प्लेट्स, बर्तन, स्ट्रॉ, पैकेजिंग फिल्म और सिगरेट के पैकेट शामिल हैं. लेकिन अब भी सिंगल यूज प्लास्टिक खूब बिक रही है. देश में सिंगल यूज प्लास्टिक के विकल्प की तलाश नहीं हो पा रही है और न ही कचरे के प्रबंधन के लिए कोई प्रभावी हल निकल पा रहा है.

ये प्रतिबंध केंद्र सरकार की ओर से जारी किए गए हैं, लेकिन इन्हें लागू कराने की जिम्मेदारी राज्य सरकारों और उनके प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड्स की होती है. राज्य समुचित कार्रवाई नहीं कर रहे हैं. ऐसा लगता है कि प्रतिबंधों को पूरी तरह से लागू कराने के लिए राज्यों के पास कोई प्रभावी रणनीति नहीं है.

आपको ये जानकार हैरानी होगी कि भारत हर साल करीब 14 मिलियन टन प्लास्टिक का इस्तेमाल करता है. सेंट्रल प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के चेयरमैन तन्मय कुमार ने हाल ही में एक बातचीत में इस बात पर जोर डाला कि प्रतिबंध के बावजूद, एसयूपी से बनी वस्तुओं, खासकर थैलों का उपयोग छोटे दुकानदारों द्वारा बहुतायत से हो रहा है.

भारत में सिंगल यूज प्लास्टिक से जड़ी अहम बात

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ने किया एसयूपी खत्म करने की दिशा में सक्रियतापूर्वक कार्य करने का वादा
  • भारत में हर रोज करीब 26 हजार टन कचरा निकलता है, जिसमें से करीब दस हजार टन कचरा इकट्ठा ही नहीं किया जा पाता.
  • भारत में प्रति व्यक्ति प्लास्टिक की खपत 11 किलो ग्राम प्रति वर्ष है और यह दुनिया में अभी भी सबसे सबसे कम है.
  • दुनिया भर में प्रति वर्ष प्रति व्यक्ति प्लास्टिक की खपत 28 किलो है.
  • सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, साल 2020-21 में भारत में करीब 35 लाख टन प्लास्टिक का उत्पादन हुआ.
  • ये आंकड़े देश के सभी 28 राज्यों और 8 केंद्र शासित प्रदेशों के दिए आंकड़ों के आधार पर जुटाए गए थे.
  • सबसे ज्यादा प्लास्टिक का उत्पादन महाराष्ट्र में 13 फीसद और उसके बाद तमिलनाडु और पंजाब 12 फीसद प्लास्टिक का उत्पादन करते हैं.
  • भारत में प्लास्टिक को रीसाक्लिंग करने की क्षमता महज 15.6 लाख टन प्रति वर्ष है जो कि प्लास्टिक उत्पादन की तुलना में आधी है.

भारत में सिंगल यूज प्लास्टिक को खत्म करने के लिए व्यापक कदम उठाने की जरूरत है, अगर आप स्वच्छ भारत चाहते हैं और बदलाव के लिए तैयार भी होना होगा. ऐसा लगता है कि सरकारें इस समस्या की जड़ पर ध्यान नहीं दे रही हैं, क्योंकि स्टिक कचरा. हमें कचरे को अलग-अलग करने के तरीके में सुधार की जरूरत है….और प्लास्टिक कचरे के प्रबंधन के लिए आधारभूत ढांचे को बढ़ाने की जरूरत है.

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. https://rajniti.online/ पर विस्तार से पढ़ें देश की ताजा-तरीन खबरें

About Post Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *