#DHONI: भारत मैच हारे तो लोग धोनी के पीछे क्यों पड़ जाते हैं ?

#DHONI: भारत मैच हारे तो लोग धोनी के पीछे क्यों पड़ जाते हैं ?

टीम इंडिया के पूर्व कैप्टन महेंद्र सिंह धोनी को लोग इंग्लैंड से मिली हार के लिए कसूरवार ठहरा रहे हैं. लेकिन क्या इस हार के लिए धोनी को जिम्मेदार ठहराना सही है. क्योंकि अगर धोनी आखिरी पांच ओवर में तेज नहीं खेल पाए तो शुरुआती 10 ओवर में रोहित शर्मा और कप्तान विराट कोहली ने भी सिर्फ 28 रन बनाए थे.

जब इंडिया और इग्लैंड के बीच खेले जा रहे है विश्वकप के मैच में भारत हारता दिखाई दे रहा था उस वक्त क्रीज पर महेंद्र सिंह धोनी और केदार जाधव बैंटिग कर रहे थे. लोग दोनों की शांत बल्लेबाजी के वजह से उन्हें कोस रहे थे. मैच के दौरान कमेंटरी करते हुए इंग्लैंड के पूर्व कप्तान नासिर हुसैन ने तो यहां तक कह दिया था कि ”धोनी कर क्या रहे हैं? कम से कम उनको कोशिश तो करनी चाहिए.” कमेंटरी कर रहे भारतीय टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने भी कहा था धोनी धीरे खेल रहे हैं. इतना ही नहीं पाकिस्तान में तो धोरी ट्विटर पर ट्रेंड कर रहे हैं. लेकिन क्या आखिरी पांच ओवर में खेली गई पारी ही भारती की हार का कारण है.

रोहित और विराट क्यों जिम्मेदार नहीं?

रोहित शर्मा ओपनिंग करने आए और 109 गेंद पर 102 रन की पारी खेली, कप्तान कोहली ने 76 गेंद पर 66 रन बनाए. ये दोनों ही बल्लेबाजों ने ज्यादा गेंदे खेल कर कम रन बनाए. अब धोनी की बात करें तो उन्होंने 31 गेंद में 42 रन बनाए. इतना ही नहीं इंग्लैंड वालों ने जहां 13 छक्के जड़े तो वहीं धोनी भारत के एकमात्र बल्लेबाज थे जिन्होंने छक्का लगाया. ज़रा सोचिए कि आखिरी के पांच ओवर में भारत को जीत के लिए 71 रन चाहिए थे. और ये हर बार आसान नहीं होता क्योंकि इंग्लैंड बेहतरीन गेंदबाजी कर रहा था. सिर्फ इस मैच की बात नहीं है. अफ्गानिस्तान के खिलाफ धोनी ने 52 गेंद पर 28 रन बनाए, रोहित शर्मा ने इस मैच में 10 गेंद पर 1 रन बनाया, वेस्ट इंडीज़ के खिलाफ धोनी ने 61 गेंद पर 56 रन बनाए. इस मैच में रोहित शर्मा 23 गेंद पर सिर्फ 18 रन बनाए. कोहली ने 82 गेंद पर 72 रन बनाए.

तो धोनी खराब खेल रहे हैं ये कहना गलत होगा. पाकिस्तान में धोनी को इसलिए घेरा जा रहा है क्योंकि अगर भारत जीतता तो पाकिस्तान सेमीफाइनल में पहुंच जाता लेकिन ऐसा नहीं हुआ. पाकिस्तान अंक तालिका में इंग्लैंड की जीत से चौथे से पाँचवें नंबर पर आ गया है और इंग्लैंड चौथे नंबर पर. पाकिस्तान के आठ मैचों में कुल नौ अंक हैं जबकि इंग्लैंड के आठ मैचों में कुल 10 अंक हैं. दोनों के एक-एक मैच बचे हैं. पाकिस्तान अगर अपना अगला मैच बांग्लादेश से जीत भी जाता है तो उसके कुल अंक ग्यारह होंगे और इंग्लैंड जीत जाता है तो उसके कुल अंक बारह हो जाएंगे.

About Post Author

Leave a Reply

Your email address will not be published.