बुंदेलखंड : सागर लोकसभा सीट पर खत्म होगा कांग्रेस का सूखा, बीजेपी के बागी पहुंचा सकते हैं फायदा

SAGAR LOKSHABHA SEAT

लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को मध्यप्रदेश से काफी उम्मीदें हैं. कांग्रेस इस बार राज्य में ज्यादा से ज्यादा सीटें जीतना चाहती है. कांग्रेस इसके लिए बुंदेलखंड पर भी फोकस कर रही है. यहां बीजेपी के बागी उसके लिए परेशानी बने हुए हैं. और काग्रेस इसका फायदा उठाना चाहती है.

मध्यप्रदेश के बुंदेलखंड इलाके में इस बार कांग्रेस बीजेपी के मुकाबले काफी मजबूत दिखाई दे रही है. बुंदेलखंड में इस बार बागी उम्मीदवारों ने भाजपा की मुसीबत बढ़ा दी. बुंदेलखंड वो इलाका है जहां बीजेपी काफी मजबूत रही है. लेकिन इस बार इस इलाके में कांग्रेस काफी खुश नजर आ रही है. मध्यप्रदेश के इस इलाके में बागी उम्मीदवार भाजपा का खेल बिगाड़ सकते हैं. बीजेपी 1996 से सागर संसदीय सीट पर चुनाव नहीं हारी है.

इस बार कांग्रेस यहां पर जीता का सूखा खत्म करना चाहती है. कांग्रेस ने यहां से प्रभु सिंह ठाकुर को इस बार चुनाव मैदान में उतारा है और उनका मुकाबला बीजेपी के राज बहादुर से है. प्रभु सिंह ठाकुर यहां लतेरी गांव में लोगों से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के झूठे वादे के बारे में बात कर रहे हैं वहीं बीजेपी के उम्मीदवार राज बहादुर ठाकुर की कमजोरी को अपनी मजबूत बनाना चाहते हैं. आपको बता दें कि बहादुर निगम पार्षद रह चुके हैं और पूर्व मंत्री भूपेंद्र सिंह का माने जाते हैं

टिकट कटने से खफा मौजूदा सांसद

बीजेपी के लिए इस इलाके में सबसे ज्यादा परेशानी ये है कि यहां पर बीजेपी के पिछली बार के सांसद लक्ष्मी नारायण यादव पार्टी से खफा हैं. यादव ने साल 2014 में 1.2 लाख मतों के अंतर से जीत हासिल की थी लेकिन इस बार उन्हें टिकट नहीं मिला. लक्ष्मी नारायण यादव का कहना है कि वह सागर से पार्टी के उम्मीदवार के पक्ष में प्रचार नहीं करेंगे. यादव के समर्थकों ने बीजेपी उम्मीदवार का पुतना भी फूंका था.

2018 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने सागर सीट की सभी 8 विधानसभा सीटें बरकरार रखी थी. ऐसे में इस बार भी बीजेपी को जीत की उम्मीद है. लेकिन यहां बीजेपी के बागी उसके लिए सबसे बड़ी परेशानी बने हुए हैं. और यहां कांग्रेस इसका फायदा उठाना चाहती है.

About Post Author

Leave a Reply

Your email address will not be published.