लोकसभा चुनाव 2019: तीखे तेवर सीधे सवाल, प्रियंका कर पाएंगी कमाल?

@CONGRESS

कांग्रेस की महासचिव और पूर्वी यूपी की प्रभारी प्रियंका गांधी ‘गंगा यात्रा’ कितनी कामयाब रही. प्रयागराज से लेकर वाराणसी तक करीब 140 किलोमीटर लंबी इस यात्रा में प्रियंका ने वो सब किया जो राजनीति में ज़रूरी होता है. तेवर भी तीखे थे, सवाल सीधे थे. लेकिन क्या वो कमाल कर पाएंगी ?

@CONGRESS

लोकसभा चुनाव 2019: प्रियंका गांधी ने अपनी ‘गंगा यात्रा’ में बीजेपी से ना सिर्फ सवाल पूछे बल्कि अपने ही अंदाज में पीएम मोदी और उनकी नीतियों की आलोचना भी की. उनके कई बयान काफी चर्चित रहे जिसमें ‘एक्सपायरी डेट’ वाला तंज, अमीरों के चौकीदार, जैसे बयान शामिल हैं. अपनी इस यात्रा में वो मंदिरों में गईं, मजारों में गईं, लोगों से मिलीं, छोटी छोटी सभाएं की और सबसे बड़ी बात ये कि उन्होंने लोगों से संवाद करने का जो तरीका अपनाया उसमें लोगों अपनापन महसूस हुआ.

ये भी पढ़ें:

लोकसभा चुनाव 2019: चुवान में बयानबाजी तो होती ही है लेकिन जब ये सलीके से की जाती है और ज्यादा प्रभावी हो जाती है. प्रियंका गांधी इस तरह के हमले करने में माहिर मानी जाती हैं. तीन दिन की गंगा किनारे की यात्रा पर निकली कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने मंगलवार (19 मार्च) को भाजपा सरकार के विकास के रिपोर्ट कार्ड के दावों को खोखला बताया और जमीनी वास्तविकता से बिल्कुल अलग बताया. यहां उन्होंने बीजेपी और मोदी के 70 सालों के हिसाब का जिक्र करते हुए भी ‘एक्सपायरी डेट’ शब्द का इस्तेमाल करते हुए हमला किया.

‘एक्सपायरी डेट’ अटैक

प्रियंका गांधी ने कहा कि जहां तक बीजेपी पिछले 70 साल की बात करती है तो इसकी भी एक एक्सपायरी डेट होती है. प्रियंका ने अपनी ‘गंगा यात्रा’ में जितनी भी सभाएं की हैं उनमें उन्होंने मोदी का नाम लिए बगैर जोरदार हमले किए हैं. उन्होंने योगी सरकार के 2 साल के कार्यकाल पर सीतामढ़ी गेस्ट हाउस के बाहर प्रतिक्रिया देते हुए कहा,

भाजपा जमीन पर आकर जरा देखें कि क्या स्थिति है। यह रिपोर्ट कार्ड, प्रचार, यह लगता बहुत अच्छा है लेकिन जमीन पर कुछ नहीं है। मैं रोज लोगों से मिल रही हूं और रोज मुझे यही पता चल रहा है कि चाहे किसान हो, नौजवान हो, स्टूडेंट हो, शिक्षामित्र हो, आंगनवाड़ी हो सब प्रताड़ित है। उनको कुछ नहीं मिला, कहीं-कहीं यह ऐलान किया गया कि 17 हजार का आपको वेतन मिलेगा और आज तक कुछ नहीं मिला। दो सालों से आठ हजार पर चल रहे हैं। जो प्रचार करते हैं और जो होता है उसमें बहुत फर्क है। पांच साल से आप सरकार में हैं पांच सालों में आपने क्या किया।

बीजेपी ने उठाए सवाल

@CONGRESS

प्रियंका इस तरह के तीखे प्रहारों ने बीजेपी नेताओ और मंत्रियों को प्रतिक्रिया देने पर मजबूत कर दिया. बीजेपी के कई नेताओं ने प्रियंका गांधी की इस चुनावी यात्रा पर सवाल खड़े किए और कहा कि कांग्रेस के लिए हर चुनाव ‘पिकनिक’ की तरह होता है. चुनाव खत्म होने के बाद वे स्विटजरलैंड या इटली रवाना हो जाते हैं. कई और नेताओं ने प्रियंका को लेकर बयान दिए जिसमें कुछ काफी विवादित भी थे. कुल मिलाकर ये लग रहा है कि प्रियंका ने अपनी इस यात्रा से यूपी में सियासी खलबली तो मचाई है और लोकसभा चुनाव 2019 में जीत-हार चांगे जिसकी हो लेकिन अगर प्रियंका यूं ही सक्रिय रहीं तो फिर कईयों की राजनीति खटाई में पड़ सकती है. क्योंकि लोगों से जुड़ने का ऐसा तरीका किसी नेता के पास नहीं है.

About Post Author

Leave a Reply

Your email address will not be published.