सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस को झप्पी देकर फंसे PM मोदी, कांग्रेस ने साधा निशाना

पाकिस्तान का दौरा खत्म करके अब सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान दो दिवसीय दौरे पर भारत आए हैं. एयरपोर्ट पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद उनका स्वागत करने के लिए पहुंचे और उन्हें गले लगाया.

बिन सलमान ऐसे वक्त में भारत आए हैं जब भारत पाकिस्तान में तनाव का माहौल है. ये इत्तेफाक ही है कि क्राउन प्रिंस पाकिस्तान का दौरा करके भारत आए हैं. उन्होंने पाकिस्तान के साथ अरबों डॉलर के समझौते किए हैं.

अब भारत में भी क्राउन प्रिंस के साथ साझा प्रेस कॉन्फ्रैंस में मोदी ने कहा कि क्राउन प्रिंस के भारत के इस पहले राजकीय दौरे में कई अहम समझौते हुए हैं. दोनों नेताओं ने आतंकवाद की समस्या का भी ज़िक्र किया है.

मोदी का बयान

पुलवामा में हुआ बर्बर आतंकवादी हमला इस मानवताविरोधी ख़तरे से दुनिया पर छाये क़हर की एक और क्रूर निशानी है. इस ख़तरे से प्रभावशाली ढंग से निपटने के लिए हम इस बात पर सहमत हैं कि आतंकवाद को किसी भी तरह का समर्थन दे रहे देशों पर सभी संभव दबाव बढ़ाने की आवश्यकता है. साथ ही अतिवाद के ख़िलाफ़ सहयोग और इसके लिए एक मज़बूत कार्ययोजना की भी ज़रूरत है ताकि हिंसा और आतंकी ताक़तें हमारे युवाओं को गुमराह न कर सकें. मुझे ख़ुशी है कि सऊदी अरब और भारत इस बारे में साझा विचार रखते हैं.

क्राउन प्रिंस का बयान

भारत और सऊदी अरब के रिश्ते ख़ून में शामिल हैं. हमारे पास अभी बहुत से अवसर हैं और साझा हित हैं चाहे ऊर्जा क्षेत्र हो या पर्यटन, संस्कृति हो या बुनियादी क्षेत्र. हम एक रणनीति बना सकते हैं और साझा योजना बना सकते हैं. 2016 के नरेंद्र मोदी के सऊदी अरब दौरे के बाद हमारे संबंधों में तरक्की हुई है. लगभग 44 अरब डॉलर का निवेश हुआ है. भारत आईटी सेक्टर में बेहद मजबूत हुआ है और हमें भी सऊदी अरब में इसका लाभ मिला है. भारत में 100 अरब से ज़्यादा निवेश के अवसर हैं.

आतंकवाद के मसले पर दोनों देशों ने चिंता जाहिर की है. सऊदी ने कहा है कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ने में वो भारत का सहयोग करेगा. लेकिन बड़ा सवाल ये है कि प्रिंस क्राउन के पाकिस्तान का दौरा खत्म करने के बाद पाकिस्तान का पीएम इमरान खान ने कहा कि पाकिस्तान का पुलवामा हमले से कोई लेना देना नहीं है. मोदी ने जिस गर्मजोशी के साथ क्राउन प्रिंस का स्वागत किया वो कांग्रेस को अखर गया है. कांग्रेस के मीडिया प्रभारी रणदीप सुरजेवाला ने सऊदी प्रिंस और प्रधानमंत्री मोदी के गले लगाने की नीति को ‘हगप्लोमेसी’ कहा,

कांग्रेस ने सऊदी अरब की पाकिस्तान को 20 बिलियन डॉलर की मदद करने और आतंकवाद की नीति पर पीठ थपथपाने को लेकर सवाल खड़ा किया है. उन्होंने ये भी कहा है कि क्या प्रधानमंत्री मोदी में हिम्मत है कि वो सऊदी अरब को पाकिस्तान के साथ जारी किए गए ज्वाइंट स्टेटमेंट को वापस लेने की मांग करें. पीएम मोदी की झप्पी अब उनके लिए मुश्किल बन सकती क्योंकि कांग्रेस इस पर हमलावर हो गई है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.