‘योगी जी कुछ करिए अयोध्या में गायों के शवों को कौवे नोंच रहे हैं’

गाय को माता मानकर उसकी पूजा करते हैं सीएम योगी…गोकल्याण सेस लगाते हैं…और गौशालाओं के जरिए गोसंरक्षण का काम करने का एलान किया जाता है…लेकिन हकीकत ये है कि गाय मर रही है और उसको पूछने वाला कोई नहीं…

जब तक दूध दे तभी माता और दूध छूटा फिर कोई नाता नहीं रखते लोग गायों से..लोगों की तो छोड़िए सरकारें भी सियासी फायदे के लिए गोमाता का इस्तेमाल करती हैं…योगी जी सीएम बने तो सबसे पहले उन्होंने गायों के लिए योजनाएं बनाने का काम शुरू किया और एलान किया गायों का संरक्षण…सर्वधन और सुरक्षा सरकार करेगी इतना ही नहीं शिकायत कोई मौका भी नहीं देगी बीजेपी की सरकार लेकिन अयोध्या जिले की 17 गोशालाओं में हालात खराब है.

जिले की सभी गोशालाओं के देखरेख अलग अलग संस्थाओं के जिम्मे है…ये तस्वीरें जो आप देख रहे हैं वो हैं पूरा बाजार ब्लाक में बैसिंग गौशाला की जिसका जिम्मा है नगर निगम के पास…लगभग 100 बीघा में बनी बैसिंग गौशाला में रोजाना गोवंश बुनियादी सुविधाओं के अभाव में मर रहा है….

ना चारा है…ना पानी है…बीमार हो जाएं तो इलाज का इंतजाम नहीं है..और अगर गाय मर जाए जो क्रियाकर्म करने की जगह कौवों के नोचने के लिए छोड़ दिया जाता है गोवंश को…गोशाला में बदइंतजामी आयुक्त क्या कहते हैं ये भी सुन लीजिए.

जिस गाय को बचाने के लिए सीएम के लिए डीएम तक जुटे हों उनकी अगर ये हालात है तो तरस आता है उस सिस्टम पर जो गोवंश के लिए बनाया गया है…क्योंकि सरकार के स्तर पर तो काफी कुछ किया गया है…लेकिन उसको जमीन पर उतारने के लिए प्रशासन पूरी तरह से नाकाम है.

ये खबर तब आई है जब महाराष्ट्र में कथित रूप से गोमांस रखने के आरोप में पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया है. इनमें तीन चीनी नागरिक बताए जा रहे हैं. मामला शुक्रवार का है जब नागपुर देहात पुलिस ने पांचों आरोपितों के खिलाफ मामला दर्ज किया है.

पुलिस का कहना है कि 18 जनवरी को जिले के खापा में गुमगांव माइंस की तरफ जा रही एक कार को रोका गया था. पुलिस ने उसमें से दस किलोग्राम मांस बरामद किया था. इसके बाद कार के चालक और एक अन्य व्यक्ति के साथ चीन के तीन नागरिकों को हिरासत में ले लिया गया था.

About Post Author

Leave a Reply

Your email address will not be published.