पूर्वोत्तर: कांग्रेस के कौन से पैंतरे से बीजेपी परेशान हुई ?

नागरिकता संशोधन विधेयक लेकर असम और पूर्वोत्तर के कई राज्यों में जोरदार विरोध हो रहा है. इस विरोध का फायदा उठाते हुए कांग्रेस ने असम के सीएम से पेशकश की है कि वो बीजेपी छोड़ कांग्रेस के समर्थन से सरकार बना सकते सकते हैं. ये पेशकश ऐसे वक्त में की गई है जब असम में बीजेपी के असम गण परिषद जैसे सहयोगी उससे अलग हो गए हैं.

असम विधानसभा में बीजेपी के 61, कांग्रेस के 25, अगप के 14, एआईयूडीएफ के 13, बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट के 12 विधायक हैं.

असम कांग्रेस के नेता देबब्रत सैकिया ने असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल को बीजेपी छोड़ने की पेशकश की है. असम विधानसभा में नेता विपक्ष सैकिया ने कहा है कि

‘विरोध प्रदर्शनों को बढावा दे रहे नागरिकता संशोधन विधेयक के चलते राज्य में पैदा हुए मौजूदा हालात के मद्देनजर सर्बानंद सोनोवाल को भाजपा छोड़ देनी चाहिये और कम से कम अपने 40 विधायकों के साथ ही बाहर आ जाना चाहिए.’

कांग्रेस ने कहा है कि वो सोनोवाल को फिर से असम का मुख्यमंत्री बनवा देंगे. हम आपको बता दं कि असम में 126 सदस्यीय सदन में कांग्रेस के पास 25 विधायक हैं. कांग्रेस का कहना है कि बाकी दलों से समर्थन लेकर वो दोबारा से सोनेवाल को सीएम बना सकते हैं अगर सोनेवाल चांहे तो.

Leave a Reply

Your email address will not be published.