क्यों झारखंड भी BJP के हाथ से निकलता दिखाई दे रहा है?

मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में जिस तरह से विधानसभा चुनाव से पहले हुए उपचुनाव में बीजेपी को हार मिली थी उसी तरह का चलन झारखंड में शुरू हो गया है. अब हाल ही में खबर आई थी कि बीजेपी लोकसभा चुनाव से पहले झारखंड के मुख्यमंत्री को बदल सकती है. ये बदलाव पार्टी की नई रणनीति का हिस्सा बताया जा रहा है. लेकिन उससे पहले ही कांग्रेस ने बीजेपी को तगड़ा झटका दिया है. कोलेबिरा सीट पर हुए उपचुनाव में कांग्रेस उम्मीदवार नमन बिक्सल कोंगारी ने बीजेपी के बसंत सोरंग को 9 हजार 6 सौ अठ्ठावन वोटों से हरा दिया. कोंगारी को 40 हजार से ज्यादा वोट मिले थे.

इस जीत के साथ अब झारखंड विधानसभा में कांग्रेस के 82 विधायक हो गए हैं. कोलेबिरा सीट अशोक एक्का के एक कत्ल के केस में दोषी ठहराए जाने के बाद खाली हुई थी. एक्का ने इस सीट पर 2009 और 2014 में जीत दर्ज की थी. उपचुवान में कांग्रेस और झारखंड विकास मोर्चा मिलकर मैदान में उतरा था. पूर्व मुख्यमंत्री बाबू लाल मरांडी के साथ मिलकर कांग्रेस आने वाले लोकसभा और विधानसभा चुनावों में बीजेपी के लिए पूरी रणनीति के साथ उतरने वाली है. और उपचुनाव में मिली जीत बीजेपी को सोचने पर मजबूर कर देगी. क्योंकि तीन राज्य गंवाने के बाद बीजेपी नहीं चाहेगी कि वो एक और राज्य खो दे.

About Post Author

Leave a Reply

Your email address will not be published.