राहुल के ‘वचन’ वरदान बनेंगे या…

राहुल गांधी ने सॉफ्ट हिन्दुत्व का जिस वजह से सहारा लिया था उसमें उन्हें कामयाबी मिली है. कांग्रेस उन तीन राज्यों में सरकार बनाने में कामयाब रही है जहां पर बीजेपी का कब्जा था. अब आगे क्या ?

कांग्रेस के सामने जिसने बड़ी चुनौती इन राज्यों से बीजेपी को सत्ता से बेदखल करने की थी उतनी ही बड़ी चुनौती है सत्ता में आने के लिए किए गए वचनों को पूरा करने की. गाय, गोशाला और हिन्दुत्व की तिगड़ी का ही कमाल था कि राहुल गांधीने बीजेपी को उसी के हथियार धाराशाही कर दिया लेकिन क्या घोषणा पत्र में किए गए वादों को पूरा करना कांग्रेस के लिए आसान होगा. कांग्रेस गोशालाओं के लिए अनुदान देने का वादा किया है, नई गोशाओं को बनाने के वादा किया है. कांग्रेस के घोषणापत्र में जो वादे किए गए थे उनमें से ज्यादातक हिन्दुओं को आकर्षित करने वाले थे. अब इनको अमल में लाना आसान नहीं होगा.

मध्य प्रदेश के लोगों को क्या वचन दिया

  • ‘सूर्य पुत्री मां ताप्ती नदी’, ‘मां मंदाकिनी नदी’ और ‘मां क्षिप्रा नदी न्यास’ का गठन होगा.
  • हर ग्राम पंचायत में गोशाला खोलेंगे और गो-अभ्यारण्य बनाए जाएंगे.
  • गोशालाओं के संचालन और रखरखाव के लिए सरकार अनुदान देगी.
  • गोशाला में गोबर, उपले और गोमूत्र का व्यावसायिक उत्पादन कराएंगे.
  • मुख्य मार्गों पर गोवंश के संरक्षण के लिए अस्थाई शिविर बनाए जाएंगे.
  • गायों का उपचार और मृत गायों के अंतिम संस्कार की व्यवस्था करेंगे.
  • गोसंरक्षण अधिनियम में विवादित धाराओं के संशोधन का वादा किया था.
  • प्रदेश में ‘मां नर्मदा न्यास अधिनियम’ बनाने का वादा भी किया है.
  • पूरे प्रदेश में नए आध्यात्मिक विभाग के गठन की बात कही गई है.
  • संस्कृत भाषा को बढ़ावा देने और नए संस्कृत स्कूल खोले जाएंगे.

अब अगर आप मध्यप्रदेश के इन वचनों पर ध्यान दें आपको समझ आएगा कि कांगेस ने लोकसभा चुनाव के लिए किन मतदाताओं को टारगेट किया है. ये पता चलता है कि बीजेपी को शिकस्त देने के लिए कांग्रेस जो रणनीति बनाई थी उसे कामयाब करने में कितनी समझदारी के साथ कांग्रेस ने कदम बढ़ाए और कामयाबी हासिल की.

राजस्थान में कांग्रेस के ‘वचन’ क्या थे ?

  • पवित्र नदियों को जीवित इकाई बनाने के लिए कानून बनाएंगे.
  • पुजारियों का मानदेय बढ़ाने के लिए सरकार काम करेगी.
  • चित्रकूट से शुरू होने वाली राम पथ गमन का प्रदेश सीमा तक निर्माण.
  • मेलों में भीड़ प्रबंधन और सुरक्षा व्यवस्था के लिए CCTV कैमरे लगाएंगे.
  • मठ मंदिरों की संपत्तियों को अतिक्रमण मुक्त कराने का भी वचन लिया.
  • पुजारी और महंत के नाम जोड़ने के संबंध में नए नियम बनाए जाएंगे.

कांग्रेस के वचनपत्र में जो वादे किए गए थे उनको पूरा करना कांग्रेस सरकार के लिए आसान नहीं होगा. शासकीय मंदिरों और धार्मिक स्थानों पर पेयजल, स्ट्रीट लाइट, प्रसाधन, नाली, सड़क और कूड़ेदान जैसी बुनियादी सुविधाएं सुनिश्चित करने के लिए कांग्रेस ने वादा किया है लेकिन इसको अमल में लाना एक मुश्किल काम इसलिए है क्योंकि राज्यों की माली हालत ठीक नहीं है. राजस्थान की बात करें तो यहां करीब 2 लाख करोड़ रुपये का कर्ज है. खजाना खाली है. पैसा कहां से आएगा ये बताना मुश्किल है. मध्यप्रदेश में भी कमोवेश वही हालात हैं क्योंकि यहां शिवराज सिंह विपक्ष में भले ही हों लेकिन वो बहुत ताकतवर स्थिति में हैं. तो वहां पर कल्याणी योजनाओं को बंद भी करना आसान नहीं है. देखना दिलचस्प होगा कि कांग्रेस वचन कैस पूरे करती है?

About Post Author

Leave a Reply

Your email address will not be published.