Monkeypox : क्या समलैंगिक सेक्स की वजह से फैली महामारी, बहुत बड़ा खुलासा

Monkeypox medicine : World Health organisation के सामने Coronavirus के बाद मंकीपॉक्स की महामारी मुंह फैलाए खड़ी है. कई विकसित देशों में फैल रहे मंकीपॉक्स को लेकर एक नई बात पता चली है. 

Monkeypox World Health organisation : विश्व स्वास्थ्य संगठन के एक सलाहकार का कहना है कि इस बीमारी के फैलने में यूरोप में हाल ही में हुए दो बड़े अंतरराष्ट्रीय आयोजनों की भूमिका हो सकती है. WHO के आपाताकलीन विभाग के पूर्व प्रमुख डेविड हेमान ने एपी से बातचीत में बताया कि इस बीमारी के फैलाव को समझने का एक प्रमुख सिद्धांत कहता है कि यह यौन संक्रमण के जरिये हुआ है. उन्होंने ध्यान दिलाया कि स्पेन और बेल्जियम में हाल ही में हुए कार्यक्रमों के लिये जमा हुए समलैंगिक और बाइसेक्सुअल (homosexuality and bisexual) पुरुषों में इसके प्रसार के कई मामले सामने आये थे.

समलैंगिकता की फैला मंकीपॉक्स | Monkeypox spread due to homosexuality

मंकीपॉक्स संक्रमित लोगों से केवल करीबी संपर्क होने पर ही होता है, ऐसा लग रहा है कि यौन संपर्कों ने इसका संक्रमण बढ़ा दिया है. अब इस बात की पड़ताल की जा रही है कि केनरी आइलैंड पर हुए गे परेड और बीमारी के प्रसार के बीच क्या कनेक्शन है. इस कार्यक्र में 80 हजार से ज्यादा लोग आये थे. लंदन के इंपीरियल कॉलेज के वायरोलॉजिस्ट माइक स्किनर का कहना है,”यौन गतिविधियों की प्रकृति है अंतरंग संपर्क होना, ऐसी स्थिति में बीमारी के प्रसार की आशंका बढ़ जाती है, इसमें किसी व्यक्ति का यौन रुझान और संक्रमण का तरीका चाहे जो हो,” उससे फर्क नहीं पड़ता.

पुराने तरीके से नहीं फैल रहा मंकीपॉक्स

Monkeypox की बीमारी कभी भी अफ्रीका के बाहर बड़े पैमाने पर सामने नहीं आई थी. अफ्रीका में भी यह आमतौर पर जानवरों में फैलने वाली बीमारी है. मध्य और पश्चिमी अफ्रीका में इस बीमारी के प्रसार का जो पैटर्न रहा है उससे यह काफी अलग है. यहां मुख्य रूप से लोग जंगली चूहों और नर वानरों से इस बीमारी से संक्रमित होते हैं. यह बीमारी कभी भी सीमाओं के पार नहीं गई है. इस बार यह मामला बिल्कुल अलग है. डब्ल्यूएचओ के मुताबिक मंकीपॉक्स के अब तक 90से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं. ये मामले ब्रिटेन, स्पेन, इस्रायल, फ्रांस, स्विट्जरलैंड, अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया समेत दर्जन भर देशों में नजर आए हैं.

Symptoms of monkeypox

  1. मंकीपॉक्स में बुखार, कंपकंपी, चकत्ते और चेहरे या यौनांगों में घाव होता है.
  2. यह किसी संक्रमित व्यक्ति के करीबी संपर्क, कपड़े या चादर के साथ दूसरे व्यक्ति में जा सकता है.
  3. स्मॉलपॉक्स का वैक्सीन मंकीपॉक्स को रोकने में भी असरदार है.
  4. यह बीमारी संक्रमण के 10 फीसदी मामलों में जानलेवा हो सकती है.
  5. संक्रमित होने वाले ज्यादातर लोग कुछ हफ्तों में ठीक हो जाते हैं.

हालांकि यौन संक्रमण की बात अभी दस्तावेजों में दर्ज नहीं है. डब्ल्यूएचओ का कहना है कि इतने सारे देशों में Monkeypox बीमारी का संक्रमण सामने आने का मतलब है कि यह पिछले कुछ समय से चुपचाप फैल रही थी. डब्ल्यूएचओ के यूरोप निदेशक ने चेतावनी दी है कि यूरोप में गर्मियां शुरू हो रही हैं और इस के साथ ही बड़े पैमाने पर लोगों की भीड़ और फेस्टिवल, पार्टियां इसके प्रसार को और बढ़ा सकती हैं.

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. https://rajniti.online/ पर विस्तार से पढ़ें देश की ताजा-तरीन खबरें

About Post Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *