यूपी विधानसभा चुनाव से पहले क्या नया खेल कर रहे हैं असदुद्दीन ओवैसी?

यूपी विधानसभा चुनाव से पहले असदुद्दीन ओवैसी की भूमिका को लेकर खूब चिंतन मंथन हो रहा है. कुछ लोग उन्हें बीजेपी की बी टीम कहते हैं तो कुछ का मानना है कि वह अल्पसंख्यकों के बड़े नेता बनकर उभरे हैं. लेकिन ओवैसी चुनाव में महत्वपूर्ण फैक्टर साबित होने का दम रखते हैं. जानिए कैसे?

यूपी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर असदुद्दीन ओवैसी का लखनऊ दौरा था और इस दौरान उन्होंने एक बड़ा ऐलान किया. ओवैसी ने कहा चूंकि पार्टी पूरे दमखम से चुनाव लड़ेगी. इस बार यूपी चुनावों में असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल-मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) ने घोषणा की है कि वह 403 विधानसभा सीटों में से 100 सीटों पर चुनाव लड़ेगी. पार्टी ने कहा कि वह गठबंधन बनाने के लिए अन्य दलों के साथ बातचीत कर रही है.

लखनऊ में एएनआई से बात करते हुए, एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, “हमारी पार्टी ने 100 सीटों पर चुनाव लड़ने का फैसला किया है. हम और पार्टियों के साथ बातचीत कर रहे हैं. समय बताएगा कि हम गठबंधन करते हैं या नहीं. हम निश्चित रूप से चुनाव जीतने की स्थिति में हैं.”

उन्होंने कहा, “यह सच है कि उत्तर प्रदेश में एआईएमआईएम की मौजूदगी काफी मजबूत हो गई है. और आज हम इस स्थिति में हैं कि हम चुनाव जीतेंगे और ढेर सारे वोट भी हासिल करेंगे, इंशाअल्लाह.” यूपी की राजनीति पर बारीक नजर रखने वाले जानकार कहते हैं कि अगर ओवैसी पूरी ताकत से यूपी के चुनाव में उतरते हैं तो इसका नुकसान काफी हद तक समाजवादी पार्टी को हो सकता है. क्योंकि वह अखिलेश यादव के लॉयल वोट बैंक को ही काटेंगे.

बिहार विधानसभा के चुनाव नतीजों पर अगर गौर करें तो वहां आरजेडी की हार का एक प्रमुख कारण ओवैसी माने जाते हैं. ऐसे में यह कहना कि जहां मुसलमान कई सीटों पर निर्णायक भूमिका में है वहां वह असर नहीं करेंगे ठीक नहीं होगा.

उत्तर प्रदेश में 2017 के विधानसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी ने 403 सीटों वाली उत्तर प्रदेश विधानसभा में से 312 सीटें हासिल की थीं. जबकि समाजवादी पार्टी (सपा) ने 47 सीटें हासिल की थीं, बहुजन समाजवादी पार्टी (बसपा) ने 19 सीटें जीती थीं और कांग्रेस के खाते में केवल सात सीटें आईं थी. बाकी सीटों पर अन्य उम्मीदवारों ने कब्जा जमाया.

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. rajniti.online पर विस्तार से पढ़ें देश की ताजा-तरीन खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *