वंदे भारतम नृत्य उत्सव – नृत्य करें और जीतें गणतंत्र दिवस परेड 2022 में प्रस्तुति देने का अवसर

श्रीमती मीनाक्षी लेखी, राज्य मंत्री, संस्कृति मंत्रालय, ने भारत की आजादी के 75 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में आजादी का अमृत महोत्सव के भाग के रूप में ’वंदे भारतम-नृत्य उत्सव’ का शुभारंभ किया।

अखिल भारतीय नृत्य प्रतियोगिता के शीर्ष चयनित 480 नर्तकों/नर्तकियों द्वारा राजपथ, नई दिल्ली में गणतंत्र दिवस परेड 2022 में सांस्कृतिक कार्यक्रम के दौरान प्रस्तुति दी जाएगी।

नई दिल्ली; 12 नवंबरः संस्कृति मंत्रालय ने आजादी का अमृत महोत्सव के भाग के रूप में एक अखिल भारतीय नृत्य प्रतियोगिता ’वंदे भारतम-नृत्य उत्सव’ शुरू करने की घोषणा की है।

इस प्रतियोगिता का मुख्य उद्देश्य देश भर से शीर्ष नृत्य प्रतिभाओं का चयन करना और उन्हें गणतंत्र दिवस परेड 2022 में सांस्कृतिक कार्यक्रम के दौरान प्रस्तुति देने का अवसर प्रदान करना है। अंतिम प्रस्तुति 26 जनवरी, 2022 को राजपथ, इंडिया गेट (नई दिल्ली) में दी जाएगी।

श्रीमती मीनाक्षी लेखी ने नई दिल्ली में एक प्रेस वार्ता के दौरान आजादी का अमृत महोत्सव मोबाइल ऐप लॉन्च करते हुए यह घोषणा की।

संस्कृति राज्य मंत्री, श्रीमती लेखी ने इस अवसर पर कहा, “माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नियमित रूप से इस बात पर जोर दिया है कि इस 75वीं वर्षगांठ समारोह के दौरान, हमें अपनी सांस्कृतिक महानता का प्रदर्शन करना चाहिए और इसका जश्न मनाना चाहिए तथा साथ ही आजादी का अमृत महोत्सव के माध्यम से भारत के उज्ज्वल भविष्य का दृष्टिकोण (विजन) देना चाहिए।“

जिला स्तर के लिए वंदे भारतम समूह नृत्य प्रतियोगिता की डिजिटल प्रविष्टियां 17 नवंबर 2021 से शुरू होंगी। प्रतियोगिता जो उत्तरोत्तर जिला, फिर राज्य, जोनल में आयोजित की जाएगी और अंत में राष्ट्रीय स्तर पर समाप्त होगी, यह प्रतिभागियों को राजपथ पर माननीय राष्ट्रपति सहित सम्मानित दर्शकों के सामने प्रस्तुति देने का अवसर प्रदान करेगी। प्रतिभागी चार नृत्य श्रेणियों, शास्त्रीय, लोक, जनजातीय और फ्यूजन/ समकालीन में प्रस्तुति दे सकते हैं और अंततः 480 नर्तकों/नर्तकियों को विजेता के रूप में चुना जाएगा।

श्रीमती लेखी ने जोर देकर कहा कि, “प्रधानमंत्री मोदी जी ने परिकल्पना की है कि समारोह हमारी सदियों पुरानी पारंपरिक संस्कृति नृत्य, देशभक्ति के गीत, लोरी और रंगोली से भरा होना चाहिए।“

मननीय मंत्री ने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री जी ने जन भागीदारी की भावना से आजादी का अमृत महोत्सव की परिकल्पना की है। पूरे भारत के लोगों को शामिल करते हुए समारोहों और कार्यक्रमों को जमीनी स्तर तक ले जाना महत्वपूर्ण है। साथ ही, उन्होंने यह भी बताया कि युवाओं को हमारी विरासत और संस्कृति से जोड़ना आज़ादी का अमृत महोत्सव का एक अनिवार्य घटक है।

उन्होंने आगे कहा कि हमें एक भारत श्रेष्ठ भारत की भावना के साथ पूरे देश को आगे ले जाना है। “हमारी भारतीयता को एक साथ संजोना, यही आज़ादी का अमृत महोत्सव का लक्ष्य है।“

श्रीमती लेखी ने यह भी बताया कि संस्कृति मंत्रालय ने विशेष रूप से इस आयोजन के लिए वेबसाइट और मोबाइल एप्लिकेशन विकसित किया है जो आयोजन के सभी पहलुओं को कवर करेगी और लोगों को प्रतियोगिता के बारे में जानकारी प्रदान करेगी। मोबाइल ऐप और वेबसाइट 17 नवंबर 2021 से सार्वजनिक रूप से उपलब्ध होगी। उन्होंने आगे बताया कि “जिला स्तर की भागीदारी केवल वेबसाइट और/या मोबाइल एप्लिकेशन के माध्यम से स्वीकार की जाएगी। इसमें प्रतियोगिता के संबंध में दिशा-निर्देश और अन्य उपयोगी जानकारी प्रदर्शित की जाएंगी”।

भाग लेने और अपनी प्रविष्टियां जमा करने के लिए www.vandebharatamnrityautsav.in पर लॉग ऑन करें या वंदे भारतम मोबाइल ऐप डाउनलोड करें। मंत्रालय द्वारा अन्य प्रतियोगिताओं जैसे देशभक्ति गीत, लोरी और रंगोली प्रतियोगिताओं के बारे में अधिक जानने के लिए www.amritmahotsav.nic.in पर जाएं या आज़ादी का अमृत महोत्सव मोबाइल ऐप डाउनलोड करें।

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. rajniti.online पर विस्तार से पढ़ें देश की ताजा-तरीन खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *