विपक्ष और बीजेपी की चुनावी रस्साकशी में फंसा चुनाव आयोग

Chandrababu-naidu-Nirmala-Sitharaman

चुनाव आयोग के काम से ना तो विपक्ष खुश है और ना ही सत्ताधारी बीजेपी. चुनाव आयोग विपक्षी दलों और बीजेपी की चुनावी रस्साकशी में फंसता दिख रहा है. बीजेपी चुनाव आयोग पर शिकायतों की अनदेखी करने का आरोप लगा रही है और  आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू ने ईवीएम मशीनों की कथित गड़बड़ी को लेकर चुनाव आयोग पर ऊंगली उठाई है.

एनडीटीवी के मुताबिक रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने चुनाव आयोग पर आरोप लगाते हुए कहा कि चुनाव आयोग उनकी बातों की अनदेखी रहा है. रक्षा मंत्री ने ये भी कहा कि राहुल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर झूठी बातें फैला रहे हैं. रक्षा मंत्री निर्माला सीतारमण और बीजेपी सांसद मुख्तार अब्बास नकवी के नेतृत्व में भाजपा का प्रतिनिधि दल चुनाय आयोग पहुंचा. निर्मला सीतारमण ने कहा,

कांग्रेस अध्यक्ष गलत शब्दों और झूठे बयानों का इस्तेमाल कर रहे हैं. वे सुप्रीम कोर्ट के दिसंबर में दिए फैसले और बिना सबूत के बावजूद लगातार प्रधानमंत्री को ‘चोर’ कह रहे हैं. साथ ही, अपनी बात सुप्रीम कोर्ट पर थोप रहे हैं. हमने चुनाव आयोग में शिकायत की है कि न तो सुप्रीम कोर्ट और न ही सीएजी इस तरह की बात कही है. लेकिन चुनाव आयोग ने कोई संज्ञान नहीं लिया. वह कहीं और देखता रहा.’

सिर्फ सत्ताधारी बीजेपी ही नहीं बल्कि विपक्ष भी लगातार चुनाव आयोग को घेर रहा है. आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायूड ने चुनाव आयोग पर आरोप लगाते हुए कहा है ईवीएम में गड़बड़ी को लेकर चाव आयोग जिम्मेदार है. शुक्रवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने आयोग की जम कर आलोचना करते हुए कहा,

 यह एक बहुत बड़ा तमाशा है. देश के लिए तबाही है. मैं कह सकता हूं कि यह एक बड़ी गड़बड़ है, बड़ा तमाशा है. मैंने कभी भी इतना असंवेदनशील, अवास्तविक, गैरजिम्मेदार और बेकार चुनाव आयोग नहीं देखा. क्या आप लोकतंत्र को मजाक समझते हैं? चुनाव आयोग भाजपा का कार्यालय बन गया है.’

इससे पहले नमो टीवी और पीएम नरेंद्र मोदी फिल्म को लेकर भी चुनाव आयोग की किरकिरी हो चुकी है. चुनाव आयोग की निष्पक्षता को लेकर पहले भी सवाल उठ रहे हैं. 2019 के लोकसभा चुनाव में कुछ सत्ताधारी बीजेपी और विपक्षी दल मिलकर चुनाव आयोग को घेर रहे हैं.

About Post Author

Leave a Reply

Your email address will not be published.