रिपब्लिक डे: एक लड़की ने कराई लड़कों को परेड

देश इस बार राष्ट्रपिता की 150 जयंती मना रहा है. 70वां रिपब्लिक डे मना रहा है. लेकिन इस बार रिपब्लिक डे खास इसलिए है क्योंकि इसमें कस्तूरी इतिहास रच रही हैं. जीहां भावना कस्तूरी आर्मी की पहली वो महिला ऑफ़िसर बनी हैं जिन्हें पुरुषों के दल को लीड करने का मौका मिला है.

लेफ़्टिनेंट भावना कस्तूरी देश की महिला ऐसे महिला हैं जिन्हें भारतीय सेना की पहली ऐसी महिला बनने का मौका मिला है जो आज़ादी के बाद पहली बार 144 पुरुष सैन्यदल की परेड को लीड करेंगी.

26 साल की भावना कस्तूरी हैदराबाद से हैं. उस्मानिया विश्वविद्यालय से मास्टर की डिग्री लेने के अलावा उनका शौक डांस और गाना गाने में भी है. उन्होंने क्लासिकल डांस में भी डिप्लोमा किया हुआ है. 23 साल तक उन्होंने जो सोचा तक नहीं था वो 26 साल की उम्र में कर रही हैं.

आजादी के 71 साल बाद 26 जनवरी को रिपब्लिक डे की परेड में भावना पहली वो महिला बन रही हैं, जो 144 पुरुष सैन्यदल की टुकड़ी का नेतृत्व करेंगी. आर्मी सर्विस कॉर्प्स की लेफ़्टिनेंट भावना कस्तूरी बीबीसी को बताती हैं,

’23 साल बाद आर्मी कॉर्प्स के दस्ते को परेड करने का मौक़ा मिला है और वो भी मुझे लीड करना है तो ये मेरे लिए बहुत ही गर्व करने वाला पल है. कई रिश्तेदार घर में कहते थे, लड़की है घर में बिठाओ और शादी करवा दो. लेकिन मेरे पापा-मम्मी ने कभी किसी की नहीं सुनी और मुझे आसमान में उड़ने के लिए खुला छोड़ दिया.आज यहां तक पहुंचने में जितनी ख़ुशी मुझे है उससे ज़्यादा मेरे परिवार को है. कई दिन घरवालों से बात नहीं होती लेकिन जो कर रही हूं इससे उन्हें गर्व महसूस होता है.

भावना हमेशा पढ़ाई में अच्छी रहीं. पढ़ाई के दौरान ही एनसीसी ज्वाइन किया और फौज में जाने का मौका दिया. चेन्नई में ऑफ़िसर ट्रेनिंग एकेडमी में ट्रेनिंग ली और अब इतिहास रचने वाली हैं. भावना कहती हैं कि तीन साल में उनकी जिंदगी बदल गई.

About Post Author

Leave a Reply

Your email address will not be published.