बुलंदशहर हिंसा: कहां तक पहुंची है पुलिस की कार्रवाई

बुलंदशहर के स्याना गांव में हुई हिंसा में एक पुलिस इंस्पेक्टर समेत दो लोगों की मौत के बाद पुलिस की कार्रवाई कहां तक पहुंची है ये बताने से पहले आपको बता दें कि इस मामले में पहले पुलिस गोहत्या की जांच करेगी बात में पुलिस अधिकारी सुबोध कुमार सिंह की हत्या की. पुलिस ने बजरंग दल का नेता योगेश राज को सुबोध कुमार की हत्या का मुख्य आरोपी बनाया है.

अंग्रेजी अखबार में इंडियन एक्सपेस में छपी खबर के मुताबिक बुलंदशहर के अपर पुलिस अधीक्षक रईस अख्तर ने बताया है कि

‘इस समय हमारी मुख्य चिंता ये है कि किन लोगों ने गाय को मारा है. गाय कीहत्या को लेकर फैली हिंसा में ही इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की मौत हुई थी.हमारा मानना है कि पहले जब हम गोहत्या की जांच कर लेंगे तो इससे पता चलेगा कि कैसेसुबोध सिंह की मौत हुई थी.गोहत्यारे हमारी प्राथमिकता में हैं. फिलहाल के लिएहत्या और हिंसा/दंगा मामला हमारी प्राथमिकता नहीं है.’

इस मामले में पुलिस ने चमन, देवेंद्र, आशीष चौहान और सतीश नाम के चार लोगों को गिरफ्तार किया है. अभी तक मुख्य आरोपी बजरंग दल का नेता योगेश राज पुलिस की गिरफ्त में नहीं आया है. गोहत्या के मामले में सर्फुद्दीन, साजिद, आसिफ और नन्हे नाम के चार लोगों को गिरफ्तार किया है. इन्हें यूपी गोहत्या रोकथाम अधिनियम 1955 के तहत गिरफ्तार किया गया है.

अभी तक इस मामले में दो वीडियो सामने आ चुके हैं जिसमें इंस्पेक्टर की हत्या का मुख्य आरोपी योगेश राज खुद को निर्दोष बता रहा है और आरोपी नंबर 9 शिखर अग्रवाल कह रहा है कि मृत पुलिस अधिकारी ने उसे डराने-धमकाने की कोशिश की थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.