Facebook का नाम बदलने की तैयारी में जकरबर्ग, क्या होगा नया नाम? जानिए

सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म फेसबुक (Facebook Inc.) आने वाले समय में खुद को रीब्रांड कर सकता है। वह इस क्रम में अपना नाम तक बदल सकता है.

“theverge.com” की रिपोर्ट के मुताबिक, कंपनी के नाम में होने वाले फेरबदल के बारे में जकरबर्ग 28 अक्टूबर को कंपनी के वार्षिक कनेक्ट सम्मेलन में बात करने की योजना बना रहे हैं। कहा जा रहा है कि फेसबुक यह पूरी योजना मेटावर्स (एक नई ऑनलाइन दुनिया जहां लोग मौजूद हैं और साझा वर्चुअल स्पेस में संवाद करते हैं) पर जोर देने के लिए बना रहा है।

रविवार को एफबी ने ऐलान किया कि वह वर्चुअल (आभासी) दुनिया बनाने के लिए अगले पांच साल में यूरोपीय संघ (ईयू) में 10,000 लोगों को नियुक्त करने की योजना बना रही है। कंपनी ने इससे पहले सितंबर में मेटावर्स बनाने के लिए 50 मिलियन अमेरिकी डॉलर्स का वचन दिया था, जहां Roblox Corp और “Fortnite” बनाने वाली एपिक गेम्स जैसी कंपनियां शुरुआती पायदान पर हैं।

क्या है Metaverse?

माना जाता है कि यह शब्द नील स्टीफेंसन ने अपने 1992 के उपन्यास ‘स्नो क्रैश’ में गढ़ा था। उन्होंने इसे एक आभासी दुनिया के रूप में संदर्भित किया था, जहां लोग अपने अवतारों का उपयोग करके एक दूसरे के साथ बातचीत करते हैं। इसे इंटरनेट के विकास में अगले चरण के रूप में देखा जा रहा है, जिसमें नए बुनियादी ढांचे और रीयल-टाइम थ्री डी दुनिया बनाना शामिल है।

एक मेटावर्स को दो भागों में बांटा जा सकता है। उनमें से एक एनएफटी और क्रिप्टोकरेंसी का उपयोग करके ब्लॉकचेन-आधारित मेटावर्स के निर्माण से जुड़ा है। कुछ उदाहरण Decentraland और The Sandbox हैं, जो लोगों को जमीन के आभासी पार्सल खरीदने और अपना वातावरण बनाने की अनुमति देते हैं। एक और सरल, आभासी दुनिया है जहां लोग एक-दूसरे से मिल सकते हैं और बधाई दे सकते हैं। फेसबुक इस वर्जन को बनाने की दिशा में काम कर रहा है।

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. rajniti.online पर विस्तार से पढ़ें देश की ताजा-तरीन खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *