कश्मीर : आर्टिकल 35A के शोर में आतंकी हमले का खतरा बढ़ा

भारतीय सेना शनिवार को पाकिस्तान बैट टीम की घुसपैठ नाकाम कर दी है. इस मुठभेड़ में पाकिस्तान  से आए 7 आतंकियों को मार दिया गया. आतंकियों के शव एलओसी पर पड़े हैं. सेना का कहना है कि पिछले करीब 36 घंटों से कई बार नियंत्रण रेखा पार करने की कोशिश की गई है. उधर जैश के करीब 15 आतंकी पीओके के ट्रेनिंग कैंपों में पहुंचे हैं.

एक तरफ भारत सरकार ने कश्मीर में अतिरिक्त पुलिस फोर्स तैनात किया है और दूसरी तरफ पाकिस्तानी बैट टीम घुसपैठ की कोशिश कर रही है. इस वक्त जम्मू कश्मीर में हालात बेहत तनाव पूर्ण हैं. भारतीय सेना ने पाकिस्तानी फौज को प्रस्ताव दिया है कि अगर वे अपनी बॉर्डर एक्शन टीम (बैट) स्क्वॉड के सैनिक/आतंकियों के शव वापस चाहते हैं तो सफेद झंडे लेकर एलओसी पर आएं और उन्हें अंतिम संस्कार के लिए ले जाएं. पाकिस्तान की ओर से अभी कोई जवाब नहीं आया है. भारतीय सेना के मुताबिक पिछले 36 घंटों में कई बार केरन सेक्टर में नियंत्रण रेखा पार करने की कोशिश की गई है. लेकिन हर बार आतंकियों की कोशिश को नाकाम किया गया.

पीओके में जैश के ट्रेनिंग कैंप, कश्मीर में अतिरिक्त फोर्स

एक तरफ खबर ये है कि बारामूला में मुठभेड़ के दौरान जैश-ए-मोहम्मद के दो आतंकी मारे गए हैं और पीओके में जैश के सक्रिय होने और उसके 15 आतंकियों के टेरर लॉन्च पैड पहुंचने की खबर आ रही है. वहीं दूसरी तरफ खबर ये भी है कि जैश के आतंकियों को पाकिस्तान की एसएसजी कमांडो फोर्स पूरा समर्थन कर रही है. आतंकी और पाक सेना मिलकर एलओसी पर घुसपैठ के लिए बैट टीम ऑपरेशन चला रही है. खुफियां एजेंसियों के मुताबिक पाकिस्तान की बैट टीम आतंकियों के साथ मिलकर कश्मीर में धमाकों की साजिश रच रहे हैं. इधर कश्मीर में अतिरिक्त फोर्स तैनात करने की वजह से स्थानीय नागरिकों में खौफ का माहौल है. भारतीय सेना ने अमरनाथ यात्रियों और पर्यटकों को जल्द वापस लौटने की सलाह दी और वायुसेना सी-17 ग्लोबमास्टर विमान से यात्रियों को कश्मीर से एयरलिफ्ट करने का काम शुरु हो गया

आर्टिकल 35A को लेकर हालात हुए बेहद तनावपूर्ण

मोदी सरकार ने कश्मीर में 10 हजार जवानों की तैनाती की है. स्थानीय लोगों में ये डर है कि सरकार जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद 35ए को हटाना चाहती है. इसलिए सेन्य गतिविधि बढ़ी है. वहीं सेना का कहना है कि जैश के आतंकियों से निपटने और खुफिया इनपुट की वजह से सैन्य गतिविधि बढ़ाई गई है. भारतीय खुफिया एजेंसियों के मुताबिक मसूद अजहर का भाई इब्राहिम अजहर जैश को पीओके में फिर से सक्रिय कर रहा है. इब्राहिम ही इस संगठन को चला रहा है और जैश ने श्रीनगर-बारामूला-उरी नेशनल हाईवे पर आईईडी ब्लास्ट की साजिश रची है. जैश के 15 आतंकी पीओके में संगठन के मार्कज, सनम बिन सलमा, तर्नब फार्म पेशावर और खैबर पख्तूनख्वा कैम्प में पहुंच चुके हैं. आतंकियों कि इन हरकतों को देखते हुए राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के कश्मीर दौरे के बाद राज्य में 10 हजार अतिरिक्त सुरक्षाबलों की 100 कंपनियां तैनात करने का फैसला लिया है.

About Post Author

Leave a Reply

Your email address will not be published.